Discussions

header ads

फिर आशिक़ी में चालान हो जाता है...

हमारा इश्क़  था  ही  इतना  सच्चा,
की स्कूटर  पर  लगता ही  था  अच्छा ...

जब  मिलने  उनसे  जाता  था, 
तो स्कूटर पर  ही  सपनो  का घर  बनता  था ..

सारा  दिन गोरखपुर  की  रोड  पर  स्कूटर  चलता  था ,
और  हमारा  इश्क़  उस  स्कूटर  पर  ही  चलता  था ...

मगर  उन  प्यारी  बातों  में  हम  इस  कदर  खो  जाते  थे ,
की रेड लाइट को भी पार कर जाते थे ...

फिर आशिक़ी में चालान हो जाता है ,
जो थोड़े बहुत पैसे होते थे ...

वह भी ट्रैफिक पुलिस वाला ले जाता था , 
इसलिए दोस्तों अगर गर्ल फ्रेंड को घुमाने जाओ , 

तो ड्राइविंग लाइसेंस अपनी जेब में  ले जाओ ||

******************************************

Hmara Ishq tha hi itna Saccha,
ki Scooter Par lgta hi tha accha,

Jb Milne unse Jata tha,
To scooter pr hi sapno ka Ghar Banata tha,

Sara din Gorakhpur ki Road par Scooter Chalta tha,
Aur Hamara Ishq us Scooter pr hi Chalta tha.

Magar un Pyari Ba0ton me hum is kadar khoo jate the,
Ki Red light ko bhi Paar kar jate the..

Fir Aashiqui me Chaalan ho Jata tha,
Jo thode Bahut Paise Hote the,

Woh bhi Traffic Police wala le Jata tha.
Isliye Dosto agar GF ko Ghoomane jao

To Driving Licence apni jeb me jarur le jao...!!

Post a Comment

0 Comments